March 7, 2015

हाय-हाय कैसी आज़ादी!


                                  हाय-हाय   कैसी   आज़ादी!   लूटतंत्र   की   परिचायक
                                  वंचित गण का तंत्र खोखला, वंचक जन-गण अधिनायक

                   आज़ादी के बाद वतन की  मिटी सनातन  नैतिकता
                   जिसने अनुशासन लाना था, सबसे उच्छृंखल दिखता
                                  जो सेनानी मिटे वतन पर डरे नहीं आघातों से
                                  कतराते हैं  उनके वंशज  देशप्रेम की  बातों से
                                             वतनपरस्ती आज वतन में  दूर खड़ी घबराती है
                                             कर्मनिष्ठ और धर्मनिरत की हँसी उड़ाई जाती है

                    कौन  मान ले  वेदों वाला   आर्यव्रत्त  है  भारत  देश
                    कौन कहे अब आर्यों का ही हो गया इतना विकृत वेश
                                  पग-पग पावन देवभूमि को जग में लज्जित करे हुए
                                  मन में  मैल, रगों में  सबकी काले शोणित  भरे हुए
                                            मुक्त भोग में  अपनी संस्कृति को बाधक पाते हैं
                                 पश्चिम का निर्लज्ज आचरण इसीलिए अपनाते हैं

                    जग के चिर विज्ञानी हम थे, हम ज्ञानी सिरमौर हुए
                    संस्कृति-संक्रमण हुआ  तो  हम ही  कपटी  घोर हुए
                                  कर-चोरी में  दक्ष बड़े छल-बल से माल कमाते हैं
                                  गर्भ-धारिणी माताओं को अनुचित अन्न खिलते हैं
                                             पापकर्म से जुड़ा अन्न  माँ में जो खून बनाता है
                                             वही खून तो मूक भ्रूण में अपसंस्कृति जगाता है

                    परम ज्ञान के चरम शिखर थे, जिनका तेज अनूठा था
                    जिनके अँगना  भगवन खेले,  सृष्टि का सुख  लूटा था
                                  उनके कुल का बीज-द्रव्य अब कलुषित भ्रूण बनाता है
                                  शापित-विकृत  भ्रूण   देश का  पेट फुलाता  जाता  है
                                             अंध लालसा ने जन जकड़े बढ़ी मनों में कंगाली
                                             हाथ मिलाके गला काटते, कहाँ रुकेगी बदहाली?

                    अम्ल सींचते हों माली  तो डरे बाग का हर कोना
                    पेट में पल-पल डरें बेटियाँ जिन्हें अभी पैदा होना
                                  साँप छुपे हैं घर के भीतर जिनके दंश डराते हैं
                                  बँटे पड़े हैं खेमों में  सब अपनी खाल बचाते हैं
                                             देश के द्रोही मंत्री करते अफज़ल का उद्धार यहाँ
                                             आतंकी  मदनी के  रक्षक  सरकारी गद्दार यहाँ

                    लूटतंत्र के  निर्मम नेता  नव  छल-बल में  कुशल बड़े
                    सत्यनिष्ठ की हर हलचल को मकड़जाल में जकड़ खड़े
                                  इधर देश में साजिश रचती सरकारों के नाटक हैं
                                  कृषकों के उत्पाद तुच्छ हैं, महँगे डॉलर-हाटक हैं
                                             उधर  हिंद की  बर्बादी  का जाल बिछाए  बैठे हैं
                                             जिनको हम ननकाना और कैलाश लुटाए बैठे हैं

                    देशद्रोह में निरत निरन्तर वाचालों का राज यहाँ
                    सत्ता के भूखे कुत्तों ने काटा सकल समाज यहाँ
                                  जाति-जाति के छद्म हितैषी घृणा पिलाकर छका रहे
                                  देश को आग लगाकर  नेता अपनी खिचड़ी पका रहे
                                          संस्कृति का सत्व मिटाते सेकुलर मिलजुल जाल बुनें
                                          आयातित संविधान समूचा किसको त्यागें, किसे चुनें

                    हिन्दी-हिन्दू-हिंद विरोधी जो अभियान सँभाले हैं
                    वामाचारी  कुटिलमति  सब इसी भूमि ने पाले हैं
                                  जनपथ की दूती को  सौंपें  गर्वीले  भारत की लाज
                                  नकली गाँधी के दुमछल्ले, वर्ण संकरों के मोहताज़
                                             हे भारत के वीरपुत्र!  हे कर्णधार! यह सच ले जान
                                             नित्य धूल में मिलती तेरी आर्य-संस्कृति की आन

                    बनकर आहुतियाँ मिट जाओ जलती अगन कराला में
                    जलते  रहते  जो-जो बन्धु  देश-प्रेम की   ज्वाला  में
                                  उठो कि बढ़कर दिशा-दिशा में पहुँचा दें अपना हुँकार
                                  उठो कि वेदों की  धरती पर  गूँजे फिर से मन्त्रोच्चार
                                             संस्कृति के अधोपतन को  अब ना और सहेंगे हम
                                             पग-पग पावन धर्म-धरा को जगद्गुरु कर देंगे हम

July 26, 2013

अथ सेकुलर विरुदावली





             धन्य-धन्य फ़र्ज़ी सेकुलर जी
             जिनकी  नित्त  नई  खुदगर्ज़ी
                       अजब-ग़जब सेकुलर की गाथा
                       कौन   कहाँ  गठजोड़  बनाता
                                  दल दल में दल बदलू सेकुलर  किसको भाता  नमो नमो
                                  जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

             सेकुलर को  मुस्लिम की  चिंता
             मुस्लिम और मुस्लिम की चिंता
                        सेकुलर बेशक हिन्दू होते
                        जिनसे बेबस  हिन्दू रोते
                                    सुन बे सेकुलर,  हिन्दू-मन में  जगत समाता नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

             सेकुलर ब्लैकमेल का कीड़ा
             मौके  तकता,  देता   पीड़ा
                         सेकुलर तत्पर तर्क निकाले
                         जिसने  पाला,  उसको खाले
                                    कब कितना गिर सकता सेकुलर सोच न पाता नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

             दस कपटी, नब्बे दुमछल्ले
             सेकुलर पलटन बल्ले-बल्ले
                         शहरों को संसाधन देंगे
                         देहातों को  सदा छलेंगे
                                     मिले  मलाई   इंडिया को   भारत  अकुलाता  नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

             सेकुलर कॉन्वेंट से आते
             हर गिरोह में पैठ जमाते
                         सबल बना सेकुलर गुर्राता
                         हिन्दू वट की  जड़ें हिलाता
                                     मैकाले   के    पुत्रों  को   थर-थर    थर्राता   नमो नमो
                                      जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

             सेकुलर टोली  बहुत बली है
             सेकुलर की ना कभी टली है
                        जो   बुद्धिजीवी    कहलाते
                        सेकुलर तमगे को ललचाते
                                     सेकुलर  खेमा  संविधान  की  नींव  हिलाता  नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

             प्रगतिशील  वही कहलाया
             जो बुद्धि गिरवी रख आया
                        ऐश करें, बिन पापड़ बेले
                        सेकुलर मठाधीश के चेले
                                     'हंस'  सवारी  करे  'नामवर'  गाल  बजाता  नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

              घूम रहा सेकुलर  का डंडा
              मिटे सनातन, यही एजेंडा
                        नकली बौने  पेड़ लगा दो
                        वृक्ष पुरातन काट गिरा दो
                                     कुक्कुरमुत्ता  अब   पीपल की   हँसी  उड़ाता  नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

              सेकुलर एक ही सुर का तोता
              तर्क  न तथ्य समझे  खोता
                        सेकुलर ढोता बोझा भारी
                        सब   धर्मों  की  ठेकेदारी
                                     भ्रमित  भटकता  औरों  को  उपदेश पिलाता  नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

              सब धर्मों को  एक  बताकर
              नए ठौर नित शीश नवाकर
                         बकता सेकुलर सत्यानाशी
                         इंडिया ताज़ा,  भारत बासी
                                      इण्डिया   झेले   दंगे,  भारत  युद्ध  रचाता  नमो नमो
                                     जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

              दौड़  रहा  आँखों को  मीचे
              भारत अब इण्डिया के पीछे
                        सेकुलर जो अंधड़ चलवाता
                        भारत उसमें  उड़-उड़ जाता
                                      संस्कार  की   पूँजी   बिखरे,   फिरे  बचाता  नमो नमो
                                      जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

              सेकुलर जी! इतिहास खँगालो
              सेकुलर  जड़  तो ढूँढ निकालो
                         शर्म करो, तुम हमें सिखाते
                         हम वसुधा को कुटुम बताते
                                      मानवता  का   रक्षक   भारत  सबका  भ्राता  नमो नमो
                                      जन गण मन में जगा देश का भाग्य-विधाता नमो नमो

March 6, 2013

प्रकटो 'ब्राह्मण राम' हमारे


                                     जमदग्नि-रेणुका  दुलारे 
                                     प्रकटो 'ब्राह्मण राम' हमारे

                  चला राम का चपल कुठारा
                  सहस्रार्जुन का  दर्प   उतारा
                          दुष्ट दुखी, सज्जन सुखियारा
                          हर   आतंकी   क्षत्रिय    मारा
                                    नहीं राम निज धाम पधारे
                                    प्रकटो 'ब्राह्मण राम'  हमारे

                  राम-श्याम निज-निज युग गामी
                  परशुराम  हर  युग   के   स्वामी
                          राम-श्याम के कारज पूरे
                          परशुराम  के  अभी अधूरे
                                    हँसते  खड़े   भ्रूण हत्यारे
                                    प्रकटो 'ब्राह्मण राम' हमारे

                  घर  में  बंदी पड़ी  भारती
                  विषकन्या की सजे आरती
                          भ्रष्ट गटकते लहू  देश का
                          सेकुलर लेते रस क्लेश का
                                  रुद्ध  पड़े   गंगा के   धारे
                                  प्रकटो 'ब्राह्मण राम' हमारे

                  ब्रह्म तेज की लपट जगाओ
                  तत्पर  परशुराम  प्रकटओ
                          तप्त   साधना के   अँगारे
                          सत्य सनातन के उच्चारे
                                  ठाकुर जी को ब्राह्मण प्यारे
                                  प्रकटो 'ब्राह्मण राम'  हमारे

                  ब्राह्मण का कुंठित मन जागे
                  बन उच्छ्वास प्रभंजन जागे
                          दर्प दलन वह वामन जागे
                          सबल सनातन ब्राह्मण जागे
                                   जागें   विप्र छलों के मारे
                                   प्रकटो 'ब्राह्मण राम' हमारे
 

March 23, 2012

हम हिन्दू नव वर्ष मनाएँ

                                   

                                हम हिन्दू नव वर्ष मनाएँ
                                भारत माँ का  मान बढ़ाएँ

                                                       सजे  रंगोली,  माथे  रोली
                                                       संस्कृति के  कलश सजाएँ

                                     अपने तन-मन  पावन कर लें
                                     नव  दुर्गा की  ज्योति  जलाएँ

                                                        घंटा-ध्वनि से,  शंखनाद से
                                                       घर-घर  सोई  शक्ति जगाएँ

                                     नए-नए  पंथों  को   छोड़ें
                                     सत्य सनातन को अपनाएँ

                                                      शक्ति-पुंज हों  सदन हमारे
                                                      घर-घर में  भगवे   लहराएँ

                                     हम वसुधा को कुटुम मानते
                                     सकल विश्व का मंगल गाएँ

                                                       नए वर्ष का  उत्तम  स्वागत
                                                       पश्चिम को भी चलो सिखाएँ

                                     नई  ऋतु  में   नई   उमंगें
                                     सृष्टि के कण-कण मुस्काएँ

                                                       आज नवल उज्ज्वल दिन निकला
                                                       नव   संवत्   से    नव    आशाएँ